बीजेपी की इस मांग से ममता बनर्जी को सकता है बड‍़ा नुकसान

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनावों के मद्देनजर पश्चिम बंगाल को अतिसंवेदनशील क्षेत्र घोषित करने की मांग की है। साथ ही गुहार लगाई है कि वहां सभी बूथों पर केंद्रीय सुरक्षा बल की तैनाती होनी चाहिए। इसको लेकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, निर्मला सीतारमण, जेपी नड्डा समेत बीजेपी के कई वरिष्ठ नेता आयोग दफ्तर पहुंचे। चुनाव आयोग से निकलते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि बंगाल में चुनावों के दौरान होनेवाली हिंसा के कारण बहुत से लोग प्रभावित हुए हैं। बंगाल में हो रही हिंसा की आशंका देखते हुए भाजपा ने चुनाव आयोग से पूरे बंगाल को अतिसंवेदनशील क्षेत्र घोषित करने की मांग की। साथ ही सभी बूथ केंद्रों पर केंद्रीय पुलिस बल तैनात करने की भी मांग की। बंगाल में चुनावों के दौरान मीडिया पर भी पाबंदी अघोषित तौर पर रहती है। लिहाजा, मीडिया को कवरेज के लिए पूरी आजादी मिले इसकी मांग की हुई है। 

भाजपा ने शिकायत दर्ज कराई की बंगाल में सिविक पुलिस की नियुक्ति और कार्यशैली पूरी तरह से असंवैधानिक है। वर्तमान सरकार द्वारा अनैतिक रूप से इसका उपयोग लॉ एंड आर्डर के क्षेत्र में भी किया जा रहा है। अनेक विडियो फुटेज ऐसे हैं, जिनमे ये लाठी चार्ज भी करते हैं।  सिविक पुलिस की कार्यप्रणाली वर्तमान सरकार के कैडर के रूप में व्याप्त हो चुकी है। लिहाजा, इनकी अनैतिक गतिविधि को देखते हुए इन्हें चुनाव प्रणाली से बिलकुल दूर रखा जाये। भाजपा ने चुनाव आयोग से मांग की कि बंगाल में निष्पक्ष चुनाव करवाने के लिए 6 वरिष्ठ अधिकारीयों को अबिलम्ब बंगाल से दूर रखा जाये। इसमें मुख्य सचिव मलय डे , गृह सचिव अतरी भट्टाचाय, पुलिस अध्ािकारी राजीव कुमार,  आईपीएस (रिटायर) सुरजीत कर पुरोकायस्थ, पुलिस अधिकारी वीरेंदर, एवं आईपीएस अनुज शर्मा आदि शामिल हैं। 

 
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान की शिकायत दर्ज कराई 
भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की भी शिकायत चुनाव आयोग में दर्ज कराई, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी की थी। मंगलवार को अहमदाबाद रैली में राहुल गांधी ने कहा था कि पीएम मोदी ने राफेल डील में देश का पैसा अनिल अंबानी की जेब में डाला। इस बावत केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री के बारे में जो बोला… इतना पैसा उसकी जेब में डाला… मैं तो वह दोहरा भी नहीं सकता। हमने इस बयान की शिकायत कर आयोग से संज्ञान लेने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.