21 सितंबर से रेलवे चलाएगा 20 जोड़ी क्लोन ट्रेनें, रिजर्वेशन के लिए करना होगा ये काम

  • 19 जोड़ी ट्रेनों के लिए हमसफर एक्सप्रेस का किराया लिया जाएगा
  • इन ट्रेनों की अग्रिम रिजर्वेशन अवधि 10 दिनों की होगी
  • उन मार्ग पर चलेंगी जहां टिकटों की प्रतिक्षा सूची लंबी है या मांग अधिक है

नेशनल डेस्क: रेलवे ने मंगलवार को कहा कि वह 21 सितम्बर से 20 जोड़ी ‘क्लोन’ ट्रेनें चलाएगा। रेलवे ने कहा कि इन ट्रेनों में से 19 जोड़ी ट्रेनों के लिए हमसफर एक्सप्रेस का किराया लिया जाएगा, लखनऊ से दिल्ली के बीच ‘क्लोन’ ट्रेन के लिए यह जनशताब्दी एक्सप्रेस के किराये के बराबर होगा। इन ट्रेनों की अग्रिम आरक्षण अवधि 10 दिनों की होगी। रेलवे के अनुसार ये ट्रेनें उन मार्ग पर चलेंगी जहां टिकटों की प्रतिक्षा सूची लंबी है या मांग अधिक है।

रेलवे ने कहा कि ये ट्रेनें पहले से मौजूद 310 विशेष रेलगाड़ियों के अलावा होंगी और इनका ठहराव मार्ग पर ‘संचालात्मक हाल्ट’ या मंडल मुख्यालय (यदि कोई है तो) तक सीमित रहेगा। रेलवे ने कहा कि ठहराव को सीमित करते समय राज्य सरकारों के सुझावों को ध्यान में रखा जा सकता है।

पहली किसान रेल 19 सितंबर से कर्नाटक से चलेगी

बेंगलुरू और दिल्ली के बीच पहली ‘किसान रेल’ कर्नाटक से 19 सितंबर से लेकर 19 अक्टूबर तक चलेगी। दक्षिण पश्चिम रेलवे ने मंगलवार को यह जानकारी दी। किसान रेल ऐसी ट्रेने है, जिनमें विभिन्न वस्तुओं की ढुलाई होगी। दक्षिण पश्चिम रेलवे ने एक विज्ञप्ति में बताया कि यह ट्रेन मैसुरू, हुबली और पुणे के रास्ते चलेगी। यह निर्धारित स्थानों के बीच चलेगी और रास्ते में ठहराव होंगे जहां सामानों को उतारने और चढ़ाने की अनुमति होगी।

विज्ञप्ति के अनुसार, ट्रेन में 10 वीपीएच (उच्च क्षमता वाली पार्सल वैन) , एक ब्रेक कम जेनरेटर कार और एक द्वितीय श्रेणी लगेज कम ब्रेक वैन होंगे। उसमें 12 एलएचबी डिब्बे होंगे। इस ट्रेन को चलाने का फैसला केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा दूध, मांस और मछलियों समेत जल्द नष्ट होने वाले खाद्य पदार्थों के लिए निर्बाध राष्ट्रीय प्रशीतन आपूर्ति श्रृंखला बनाने के लिए 2020-21 के बजट में की गयी घोषणा के अनुरूप है।