Breaking News

आज का पंचांग: (31 अगस्त, 2020): आज होगा ओणम त्यौहार का समापन

  • आज बन रहा है शोभन योग व श्रवण नक्षत्र
  • श्रवण नक्षत्र योग में जन्में लोग हेते हैं ऐसे 

आज 31 अगस्त, तिथि त्रयदशी दिन सोमवार , शोभन योग तथा श्रवण नक्षत्र बन रहा है। ज्योतिष शास्त्र में बताया गया है कि प्रत्येक नक्षत्र का अपना महत्व होता है। इसमें जन्में जातक अधिक ज्ञान अर्जन के कारण अपने जीवन में करियर के चुनाव में परेशानी नहीं झेलते हैं। इसके अलावा आज तमिल के त्यौहार ओणम का समापन हो जाएगा। बता दें मुख्य रूप से ओणम मलयाली त्यौहार है। ओणम का दिन सौर कैलेण्डर पर आधारित होता है, जिसके अनुसार ये चिंगम माह में मनाया जाता है। जिस दिन थिरुवोणम नक्षत्र प्रबल होता है, उस ही दिन ओणम पर्व मनाया जाता है। थिरुवोणम नक्षत्र अन्य भारतीय पंचांग में श्रवण नक्षत्र के नाम से जाना जाता है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ओणम का पर्व भगवान विष्णु के वामन रूप में अवतार लेने और महान सम्राट महाबलि के धरती पर पुनः आगमन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। ओणम का पर्व दैत्य राज महाबलि की पाताल लोक से पृथ्वी लोक पर वार्षिक यात्रा को समर्पित है। लोक माान्यता है थिरुवोणम के दिन दैत्य राज महाबलि प्रत्येक मलयाली घर में जाकर अपनी प्रजा से मिलने आते हैं।

यहां जानें आज का पंचांग-

सूर्योदय-05:58 ए एम
सूर्यास्त-06:43 पी एम
चन्द्रोदय-05:54 पी एम
चन्द्रास्त-04:53 ए एम, सितम्बर 01
शक सम्वत-1942 शर्वरी
विक्रम सम्वत-2077 प्रमाथी
गुजराती सम्वत-2076 विरोधकृत्
अमान्त महीना-भाद्रपद
पूर्णिमान्त महीना-भाद्रपद
वार-सोमवार
पक्ष-शुक्ल पक्ष
तिथि-त्रयोदशी – 08:48 ए एम तक
नक्षत्र-श्रवण – 03:04 पी एम तक
योग-शोभन – 01:23 पी एम तक
करण-तैतिल – 08:48 ए एम तक
द्वितीय करण-गर – 09:10 पी एम तक
सूर्य राशि-सिंह
चन्द्र राशि-मकर – 03:48 ए एम, सितम्बर 01 तक
राहुकाल-07:34 ए एम से 09:09 ए एम
गुलिक काल-01:56 पी एम से 03:32 पी एम
यमगण्ड-10:45 ए एम से 12:21 पी एम
अभिजित मुहूर्त-11:55 ए एम से 12:46 पी एम
दुर्मुहूर्त-12:46 पी एम से 01:37 पी एम
दुर्मुहूर्त-03:19 पी एम से 04:10 पी एम
अमृत काल-05:33 ए एम, सितम्बर 01 से 07:16 ए एम, सितम्बर 01
वर्ज्य-07:20 पी एम से 09:02 पी एम

About News Desk

Check Also

Aaj Ka Rashifal 4 Oct 2022: जानें कैसा बीतेगा आपका आज का दिन

जानें इन राशि वालों का कैसा बीतेगा आज का दिन किन राशि वालों को होगा …