Breaking News

Bharat Jodo Yatra: कठुआ से राहुल गांधी ने शुरू की भारत जोड़ो यात्रा

  • कठुआ से राहुल गांधी ने शुरू की भारत जोड़ो यात्रा

  • पठानकोट बॉर्डर पर राहुल का संबोधन

  • 30 जनवरी को समाप्त होगी भारत जोड़ो यात्रा

Bharat Jodo Yatra: कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में निकली भारत जोड़ो यात्रा अब अपने अंतिम पड़ाव में पहुंच चुकी है। शुक्रवार सुबह गांधी ने जम्मू कश्मीर के कठुओ जिले के लखनपुर से यात्र  की शुरूआत की। इस दौरान वे ब्लैक जैकेट में नजर आए। 125 दिनों की यात्रा में राहुल बार जैकेट में नजर आए। उत्तर भारत में कड़ाके की सर्दी पड़ने के बावजूद उन्होंने कोई गर्म कपड़ा नहीं बना था। राहुल गांधी के साथ यात्रा में शिवसेना प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय राउत भी नजर आए।

भारत जोड़ो यात्रा में कांग्रेस नेता का टीशर्ट अवतार मीडिया में छाया रहा। प्रेस से मुखातिब होते समय जब उनसे इस बारे में सवाल किया गया था तब उनका कहना था कि उन्हें सर्दी से इसलिए नहीं लगती क्योंकि वो ठंड से डरते नहीं हैं। जो लोग भी स्वेटर या जैकेट पहन रहे हैं वो ठंड से डरते हैं इसलिए उनको सर्दी लगती है। लेकिन मेरे केस में ऐसा नहीं है। मेरी यात्रा ही डर के खिलाफ है। मुझे डर नहीं लगता है।

शुक्रवार सुबह से जम्मू कश्मीर में मौसम का मिजाज बिगड़ा हुआ है। राहुल गांधी ने बारिश के बीच ही यात्रा आरंभ की। रामबन जिले के विभिन्न स्थानों पर राजमार्ग पर पत्थर गिरने व बनिहाल और जवाहर टनल के बाहर बर्फबारी के चलते नेशनल हाईवे पर आवागमन ठप हो गया है।

पठानकोट बॉर्डर पर राहुल का संबोधन

गुरूवार शाम को राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर में प्रवेश करने से पहले पठानकोट बॉर्डर पर जनसभा को संबोधित किया। यहां उन्होंने कहा, मेरे पूर्वज जम्मू कश्मीर से उत्तर प्रदेश गए थे। इसलिए मुझे ऐसा लग रहा है कि मानो घर वापस आ गया। कांग्रेस सांसद ने कहा कि जिस धरती पर मेरा परिवार कभी रहता था, वहां मैं पैदल चलकर आ रहा हूं। मैं यहां के लोगों का दुख-दर्द बांटने आया हूं। इस यात्रा में जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती और सीपीएम नेता यूसुफ तारिगामी भी जुड़ेंगे।

7 सितंबर 2022 को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू हुई कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा 19 जनवरी को जम्मू कश्मीर पहुंची। 125 दिन में राहुल 13 राज्यों से गुजरे। जम्मू कश्मीर में वे 9 दिन रहेंगे। जम्मू के लखनपुर से हीरानगर, बनिहाल टनल  होते हुए कश्मीर घाटी तक जाएगी। 30 जनवरी को एक विशाल रैली के साथ यात्रा खत्म होगी।

About Ragini Sinha

Check Also

LIC को तगड़ा झटका, अडानी के शेयर मूल्य में 22 फीसदी की गिरावट

एलआईसी को लगा तगड़ा झटका अडानी के शेयर मूल्य में 22 फीसदी की गिरावट एलआईसी …