Wednesday, August 17, 2022
Home विदेश चीन ने अमेरिक...

चीन ने अमेरिका को फिर दी चेतावनी: हमारी संप्रभुता को कम आंकने की गलती ना करें

  • अमेरिका और चीन के बीच जुबानी जंग और तेज 

  • ‘अमेरिका चीन की संप्रभुता और सुरक्षा हितों को कम आंकने की कीमत चुकाएगा’

  • आज शाम ताइवान पहुंचेंगी अमेरिकी संसद की स्पीकर नैन्सी पेलोसी 

America China Tension:  ताइवान मुद्दे को लेकर अमेरिका और चीन के बीच लंबे समय से जारी जुबानी जंग और तेज हो गई है। अमेरिकी संसद की स्पीकर नैन्सी पेलोसी के संभावित ताइवान दौरे ने इस विवाद में आग में घी डालने का काम किया है। पेलोसी के दौरे को लेकर ड्रैगन आगबबूला है। वह लगातार यूएस को चेतावनी के साथ – साथ धमकी भी दे रहा है। इसी क्रम में एकबार फिर चीन ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि अमेरिकी संसद की स्पीकर ताइवान जाती हैं तो अमेरिका को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंह ने मंगलवार शाम एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि अमेरिका चीन की संप्रभुता और सुरक्षा हितों को कम आंकने की कीमत चुकाएगा और इसकी जिम्मेदारी अमेरिकी पक्ष की होगी। इससे पहले गुरूवार को चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ बातचीत के दौरान चेतावनी देते हुए कहा था कि जो लोग आग से खेलते हैं, वे इससे नष्ट हो जाएंगे।

आज शाम ताइवान पहुंचेंगी पेलोसी 

चीन धमकी को नजरअंदाज करते हुए अमेरिका की स्पीकर नैंसी पेलोसी ताइवान पहुंचने जा रही है। हालांकि, उनके दफ्तर की तरफ से टूर प्रोगाम जारी किया गया है, उसमें ताइवान का नाम नहीं है। इसमें सिंगापुर, मलेशिया, साउथ कोरिया और जापान ही हैं। लेकिन जानकारी के मुताबिक, मंगलवार शाम 7.45 बजे पेलोसी ताइवान पहुंचेंगी। एयरपोर्ट पर उन्हें ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग वेन रिसीव करेंगी। बता दें कि 1997 के बाद ये किसी शीर्ष अमेरिकी राजनेता का पहला ताइवान यात्रा होने जा रहा है।

अमेरिका ने किए भारी सुरक्षा बंदोबस्त

सुपरपॉवर अमेरिका ने चीन के किसी भी हरकत का मुंहतोड़ जवाब देने की पुख्ता तैयारी कर ली है। जापानी मीडिया रिपोर्टेस के मुताबिक, 8 अमेरिकी फाइटर जेट्स और 5 रिफ्यूलिंग विमानों ने पेलोसी के विमान को सुरक्षा कवर देने के लिए अमेरिकी सैन्य बस से उड़ान भरी है। इसके अलावा ताइवान की उत्तरी समुद्री सीमा में 4 वॉरशिप तैनात किए गए हैं। इन पर एफ-16 और एफ-35 जैसे हाईली एडवांस्ड फाइटर जेट्स और मिसाइलें मौजूद हैं। इसके अलावा रीपर ड्रोन और लेजर गाइडेड मिसाइल भी तैयार हैं।

कुल मिलाकर ताइवान मुद्दे को लेकर दोनों महाशक्तियों के बीच तनाव अपने चरम पर पहुंच चुका है। पेलोसी के ताइवान आगवान पर ड्रैगन क्या रूख अपनाता, सबकी नजरें इसपर टिकी हैं। खबर के मुताबिक, पेलोसी का विमान मलेशिया से ताइवान के लिए निकल चुका है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular