Breaking News

मानसून सत्र में सांसदों को लानी होगी Corona की निगेटिव रिपोर्ट, 72 घंटे पहले कराना होगा Test

  • 14 सितंबर से शुरू हो रहा संसद का मानसून सत्र
  • सांसदों को लानी होगी  कोरोना निगेटिव रिपोर्ट 
  • कोरोना टेस्ट मानसून सत्र शुरू होने से 72 घंटे पहले कराना होगा

नेशनल डेस्क:  संसद के 14 सितंबर से शुरू हो रहे मानसून सत्र में हिस्सा लेने के लिए सांसदों को अपनी, अपने परिवार के सदस्यों और नजदीकी संपर्क वाले व्यक्तियों की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। लोकसभा और राज्यसभा सचिवालयों द्वारा जारी विस्तृत दिशानिर्देशों के मुताबिक, नजदीकी संपर्क वाले व्यक्तियों में सांसदों के निजी सहायक, निजी सचिव, चालक और घरेलू सहायक या सहायिका शामिल हैं।

सांसदों को कोरोना टेस्ट मानसून सत्र शुरू होने से 72 घंटे पहले कराना होगा। यह टेस्ट वे अपने संसदीय क्षेत्र या संसद परिसर में करा सकते हैं। पॉजिटिव पाए जाने पर सांसद को डॉक्टर की सलाह पर आइसोलेशन में जाना होगा या अस्पताल में भर्ती होना होगा।

अगर सांसद का कोई परिजन या निजी सहायक या निजी सचिव या घरेलू सहायक/सहायिका पॉजिटिव पाई जाते हैं तो सांसद को हाई रिस्क जोन में माना जाएगा और उन्हें 14 दिन के क्वारंटाइन में जाना होगा। नौ पेज के दिशानिर्देशों के मुताबिक, सांसदों के अलावा लोकसभा और राज्यसभा सचिवालय के कर्मचारियों को भी अपना कोरोना टेस्ट कराना होगा। इसमें मंत्रालयों के अधिकारियों से लेकर मीडिया के लोग भी शामिल हैं। जरूरत पड़ी तो सत्र चलने के दौरान भी कोरोना संक्रमण की रैंडम टेस्टिंग भी कराई जाएगी।

About News Desk

Check Also

Chhattisgarh: दुर्ग में बच्चा चोरी का शक होने पर साधुओं की लोगों ने की पिटाई

दुर्ग में साधुओं की लोगों ने की पिटाई लोगों को था बच्चा चोरी का शक …