Breaking News

रिपोर्ट में बड़ा खुलासा: गरीबी में टॉप 5 राज्यों में चार बीजेपी शासित, उनमें भी शीर्ष पर उत्तर प्रदेश

  • नीति आयोग ने जारी किया बहुआयामी गरीबी सूचकांक
  • गरीबी में टॉप 5 राज्यों में चार बीजेपी शासित
  • रिपोर्ट के बाद गरमाया सियासी गलियारा 

नेशनल डेस्क:  नीति आयोग की ओर से बहुआयामी गरीबी सूचकांक जारी किया है। जिसके बाद सियासी गलियारा गमरा गया है। जारी गरीबी सूचकांक के अनुसार, बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश भारत के सबसे गरीब राज्यों के रूप में उभरे हैं। सूचकांक के अनुसार, बिहार की 51.91 प्रतिशत जनसंख्या गरीब है, इसके बाद झारखंड में 42.16 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में 37.79 प्रतिशत लोग गरीब हैं। सूचकांक में मध्य प्रदेश (36.65 प्रतिशत) को चौथे स्थान पर रखा गया है, जबकि मेघालय (32.67 प्रतिशत) पांचवें स्थान पर है।

 

 

इन राज्यों में सबसे कम गरीबी

केरल (0.71 प्रतिशत), गोवा (3.76 प्रतिशत), सिक्किम (3.82 प्रतिशत), तमिलनाडु (4.89 प्रतिशत) और पंजाब (5.59 प्रतिशत) सूचकांक के साथ पूरे भारत में सबसे कम गरीबी दर्ज की है। ये राज्य सूचकांक में सबसे नीचे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, भारत का राष्ट्रीय एमपीआई का मानक, ऑक्सफोर्ड पॉवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनिशिएटिव (ओपीएचआई) और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) द्वारा विकसित विश्व स्तर पर स्वीकृत और मजबूत कार्यप्रणाली का उपयोग करता है।

केंद्रशासित प्रदेशों में पुडुचेरी में सबसे कम गरीब 

जबकि केंद्र शासित प्रदेशों दादरा और नगर हवेली (27.36 प्रतिशत), जम्मू और कश्मीर व लद्दाख (12.58), दमन और दीव (6.82 प्रतिशत) और चंडीगढ़ (5.97 प्रतिशत) सबसे गरीब केंद्र शासित प्रदेश के रूप में उभरे हैं।

About News Desk

Check Also

National news: भारत में पाकिस्तान सरकार के ट्विटर अकाउंट पर लगी रोक, कानूनी मांग के बाद एक्शन

पाकिस्तान सरकार पर भारत की डिजिटल स्ट्राइक भारत में पाकिस्तान सरकार का ट्विटर अकाउंट बंद …