Breaking News

संसद के मानसून सत्र में नहीं होगा प्रश्नकाल, सरकार ने जारी किया नया फरमान

  • संसद के मानसून सत्र के दौरान कोई प्रश्नकाल नहीं होगा
  • राज्यसभा सचिवालय ने की अधिसूचना ​जारी
  • मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरू होकर  1 अक्टूबर को समाप्त होगा

नेशनल डेस्क:  राज्यसभा सचिवालय ने अधिसूचना ​जारी कर बताया है कि, कोरोना माहामारी के बीच 14 सितंबर से आयोजित होने वाल संसद के मानसून सत्र के दौरान कोई प्रश्नकाल नहीं होगा। हालांकि, शून्य काल और अन्य कार्यवाही अनुसूची के अनुसार आयोजित की जाएगी। संसद का मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरू होकर 1 अक्टूबर को समाप्त होने वाला है।

सत्र में भाग लेने वाले सांसदों के साथ-साथ अधिकारियों और कर्मचारियों को कोरोना वायरस के आवश्यक प्रोटोकॉल का पालन करना होगा, जिसमें 72 घंटों के भीतर COVID-19 का परीक्षण करना शामिल है।

रिपोर्ट के मुताबिक संसद का मानसून सत्र दैनिक आधार पर आयोजित किया जाना है, यहां तक ​​कि सप्ताह के अंत पर भी कोई ब्रेक नहीं है। दोनों सदनों की कार्यवाही दैनिक आधार पर आयोजित की जाएगी। एक दिन (14 सितंबर) को लोकसभा सुबह 9 से दोपहर 1 बजे तक जबकि राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 3 से 7 बजे तक आयोजित की जाएगी। 14 सितंबर के बाद, राज्यसभा सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक बैठेगी और लोकसभा की प्रक्रिया दोपहर 3 बजे से 7 बजे तक निर्धारित है। संसद के दोनों सदनों में प्रतिदिन चार घंटे बैठना है और महामारी को देखते हुए सरकार द्वारा हर एहतियाती कदम उठाया जाएगा।

About News Desk

Check Also

Jammu Kashmir: कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़, 3 आतंकियों को किया ढेर

कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ मुठभेड़ में 3 आतंकियों को किया …