Breaking News

बाराबंकी की नहर में मिले लापता दो सगे भाइयों के शव, परिजनों ने मामा पर लगाया था अपहरण का आरोप

  • नहर में दो सगे भाइयों के शव मिलने से हड़कंप

  • फतेहपुर कोतवाली के बसारा से हुए थे लापता

  • परिजनों ने शव को देखकर की पहचान

यूपी डेस्क: बाराबंकी में दो दिन पहले मामा के साथ घूमने निकले सगे भाइयों का शव बुधवार को नहर में पाए गए है। दोनों को नहर में फेंककर हत्या करने की आशंका जताई जा रही है। मृतक के पिता ने आरोपित मामा पर अपहरण का मुकदमा कराया था लेकिन अब दोनों की लाश पुलिस को बरामद हुई है। शव मिलने के बाद एसपी, एएसपी व सीओ ने घटनास्थल का जायजा लिया और तहरीर के आधार पर पुलिस मामा की तलाश में जुट गई है। फिलहाल आरोपी मामा लापता है।

यह भी पढ़ें: Delhi Corona Alert: दिल्ली में मास्क पहनना किया अनिवार्य, न पहनने पर लगेगा 500 रुपये का जुर्माना

जानकारी के अनुसार फतेहपुर थाना के ग्राम बसारा में रहने वाले रामकिशोर का सात वर्षीय पुत्र कृष्णा और पांच वर्षीय पुत्र दिव्यांश इसरौली में एक निजी विद्यालय में कक्षा दो व केजी का छात्र था। दोनों के मामा बाइक से ही स्कूल से लेने और छोड़ने जाते थे। रामकिशोर की पत्नी कृष्णावती का भाई महेंद्र प्रताप दो महीने से अपनी बहन के यहां ही रह रहा था पर वह खेवली गांव का रहने वाला है। पीड़ित की तहरीर पर जांच में जुटी पुलिस को बुधवार को एक शव सतरिख थाना के पांडे का पुरवा तो वहीं दूसरा शव डेढ़ किमी दूर भगवानपुर में स्थित नवाबगंज रजबहा में पाया गया।

पुलिस पहले पांडे का पुरवा शव की सूचना पर पहुंची थी। उसको निकालते समय ही दूसरे शव की जानकारी मिली। एएसपी मनोज पांडेय और सीओ सदर नवीन सिंह ने घटना स्थल का जायजा लिया। डाग स्क्वायड और फील्ड यूनिट भी मौके पर पहुंची। दोनों मासूमों की हत्या के पीछे भी मामा के मनोरोगी होने की ही चर्चा है। फतेहपुर से लापता दोनों बच्चों की सूचना सभी थानों पर थी। वहीं पिता बेटों की तलाश में सीतापुर गए हुए थे। बुधवार को शव मिलने पर पुलिस ने कृष्णा व दिव्यांश के परिजनों को सूचना दी, जिससे वह आकर पहचान कर सकें। शव विच्छेदन गृह पहुंचे परिवारजन ने मां कृष्णावती को फोन कर बच्चों के कपड़ों की जानकारी ली। कपड़े वहीं होने के बाद परिजनों ने शव देखकर पहचान की। दोनों के शव मिलने से परिवार में कोहराम मचा हुआ है।

यह भी पढ़ें: Maharashtra: महाराष्ट्र में कारोबारी के ठिकानों पर ED का छापा, 390 करोड़ की मिली बेनामी संपत्ति

About Ravi Prakash

Check Also

Mukhtar Ansari: गैंगस्टर के मामले में माफिया मुख्तार अंसारी दोषी करार, पांच साल की मिली सजा

माफिया मुख्तार अंसारी की मुसीबतें बढ़ी इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सुनाई की पांच साल की …